वन्दे मातरम्।

वन्दे मातरम्।

74 Posts

38 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 5753 postid : 45

गौहत्या का एक कारूणिक दृश्य

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कुछ सज्जन कलकते कसाईखानेमें गये थे। गौओंकी हत्या किस प्रकार होती है इसके विषयमें उन्होंने बताया कि गौओंके ऊपर गरम खूब खौलता हुआ पानी छिड़का जाता है, जिससे उनका चमड़ा मुलायम हो जाता है। खौलते पानीको छिड़ककर लाठियोंसे उनको मारा जाता है, जिससे चमड़ा फूल जाय और खूब मुलायम हो जाय। इसके बाद उसके जीते ही उसका चमड़ा उतारा जाता है, चमड़ा उतारते हुए वह काँपती, डकारती-छ्टपटाती, तड़प-तड़पकर मर जाती है। किसी-किसी कसाईखानेमें तो गायको मार-मारकर उसका चमड़ा उतारा जाता है ऐसी भी बात सुनी जाती है,और किसीमें ऐसा सुना जाता है कि पहले चमड़ा उतार लिया जाता है फिर वह मर जाती है या उसका कत्ल कर दिया जाता है। उनका कहना है कि चमड़ा पहले इसलिये उतार लिया जाता है, जिससे ज्यादा मुलायम रहे। यह भी बताते हैं कि उस चमड़ेके जो जूते बनते हैं वे एक नंबर के होते हैं। अपने आप मर जानेवाली गौका चमड़ा कठोर होता है, उनके जूते खराब तथा सस्ते होते हैं।

-सेठजी जयदयाल गोयन्दका (कल्याण वर्ष ६९ संख्या ९



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

bharodiya के द्वारा
July 5, 2011

दुनियाकी आबादी के ५ प्रतिशत अहिन्सावादी के समने ९५ प्रतिशत हिन्साखोर है । सबको अपनी अपनी चलानी है । ५ कभी ९५ का समना नही करसकता ।

bharodiya के द्वारा
July 4, 2011

पेहेले तो ये चीत्रो को हटा लोगे तो आपकी मेहरबानी होगी । ये हकीकत है, ईसे कोइ बदल नही सकता । फीर भी हम जैसे लोग ऐसे द्रश्य देख के दुखी होते है । और दुखी मत करो ।

    BRIJESH PANDEY के द्वारा
    July 4, 2011

    aap ki baat ka samman karte hue mai chitra hata leta hu per sachhai se kub tak muh chipayenge……………………………………………….BRIJESH PANDEY


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran